Followers

Wednesday, February 23, 2011

आत्म चिंतन ....



आज
मैं बैठा हूँ चिंतन करने को...

.समझ नहीं रहा है,
कि चिंतन की शुरुवात कहाँ से करूँ
चिंतन कि चिंतन से मैं चिंतित हो गया हूँ,
देश कि चिंता करूँ या खुद कि चिंता करूँ. ..
देश में बढ़ रहे भ्रष्टाचार कि चिंता करूँ,
या खुद में कम हो रहे शिष्टाचार कि चिंता करूँ ..
चिंता करूँ बईमानो कि बईमानी कि,
या खुद के इमां का आत्मसात करूँ
चिंता करूँ बढ़ते महंगाई की
या फिर अपने घटते आय कि चिंता करूँ
चिंता करूँ बिगड़ते हुए समाज-धर्मों कि
या फिर खुद से ही खुद ही फ़रियाद करूँ
चिंता करूँ उन अनाथो-बेसहारों का
या फिर किसी असहाय को सहाय करूँ
चिंता करूँ लोगों में घटते संस्कारों कि
या फिर अपने कुकर्मो पे कुठाराघात करूँ
चिंता करूँ सीमापार के आतंकियों क़ी
या फिर घर के देश द्रोहियों का ही नाश करूँ
क्या-क्या कि मैं चिंता करूँ...?
चिंतन कि चिंतन यहीं समाप्त करें !
नहीं रहा अब चिंतन का समय चलो,
अब कहीं से हो सही एक शुरुवात करें

No comments:

Post a Comment

नई कवितायेँ ...

LatestPoetry:


Hindi