Followers

नई कवितायेँ ...

LatestPoetry:


Hindi

Saturday 4 June 2011

हम तो पानी अन जी...


हम तो पानी अन जी
दूध म मिलाहु ता दुध बन जाबो
दही म मिलाहु ता दही बन जाबो
हम तो पानी अन जी
प्यास लगही ता प्यास बुझबो
आगि लगही तो वोहू ला बुझबो
हम तो पानी अन जी
तबियत बिगाड़ही ता दवाई म मिला लव दवाई बन जाबो
अऊ कहूँ दारू म मिलाहु ता दारू बनके मस्ती ला चढ़हाबो
हम तो पानी अन जी
अमृत म मिलाहु ता सबके जान बचाबो
ज़हर म डारहु ता सबके काल ला संग म लाबो
हम तो पानी अन जी
नाली म बोहा हु ता गन्दगी बढ़ाहबो
खेत म डारहु ता खुशाली ला लाबो
हम तो पानी अन जी
बचा हु कहूँ मोला ता हरियाली हा आही
नई बचाहु ता चारो मुड़ा सुख्खा बढ़ जाही
हम तो पानी अन जी
गंगा जल म मिलाहू ता गंगा जल बन जाबो
अरपा नदिया म बोहहू ता सोझ्झे पानी कहाबो
हम तो पानी अन जी
हमन पानी अन-पानी अन
औ पानीये रहिबो
दरद जम्मो दुनिया के ला सहीबो
हम तो पानी अन जी

3 comments:

  1. ye wali post mujhe sach me bahot hee achchhi lagi hai . bhua ko jaise gudi gudi comment pasand nhi hai naa waise hee mujhee bhi ,sachchi baat likhna hee achchha lgta hai

    ReplyDelete