Followers

Wednesday, September 21, 2011

" कोई मुसाफिर "

चाँद आज क्यूँ मायूस है,
सितारे क्यूँ खामोश है !
चल रही पवन धीमे-धीमे क्यूँ,
कैसा ये अहसास है !
दूर ठहरा है कोई मुसाफिर,
परदेशी अनजाना है !
क्या जादू है उसमे,
दिल ने क्यूँ उसको अपना माना है !

3 comments:

  1. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  2. पहली बार पढ़ रहा हूँ आपको और भविष्य में भी पढना चाहूँगा सो आपका फालोवर बन रहा हूँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. संजय जी आपके कमेन्ट पढ़कर ख़ुशी हुई ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है, आपके बहुमूल्य सुझाव लाभदायक और उत्प्रेरक लगेंगे..
    आभार सहित धन्यवाद !!!

    ReplyDelete

नई कवितायेँ ...

LatestPoetry:


Hindi