Followers

Thursday, December 8, 2011

आत्म संतुष्टि ...


जाने क्यूँ रात-दिन,
अनजाने सपने सजाती हूँ !
आंख खुलते ही,
खुद से तुझे दूर पाती हूँ !
रोम-रोम में बसे हो,
जेहन में तुमको पाती हूँ !
नज़रों का धोका है ?
पर मन का विश्वास कर जाती हूँ !
उफ़ ये रिवाजों की बंदिशें क्यूँ,
तेरी बातों से आत्म संतुष्टि को पाती हूँ !

नई कवितायेँ ...

LatestPoetry:


Hindi