Followers

Wednesday, February 15, 2012

अब तलक तेरी खुशबु आती है...



जब लिखने बैठता हूँ तस्वीर तेरी आँखों में छा जाती है

मेरे शब्दों में तेरे शब्दों की झलक - छलक जाती है

मेरे लिखे पंक्तियों को छुप-छुपकर पढ़ा करती थी

जाने क्यूँ सामने आने से कतराती और डरा करती थी

सुनहली आँखों में अनसुलझे सपने बुना करती थी

सपनो की सच्चाई ज़ाहिर न हो हरसूं गुना करती थी

गुस्सा होता था चेहरे पर दिल में अरमान पनपाती थी

गुमनाम तन्हाइयों में मुझको करीब दिल के पाती थी

हाँ तेरी जुदाई का दर्द पल-पल नासूर हुए जाती है

किताबों में दफ़न फूलों से अब तलक तेरी खुशबु आती है

मुकेश गिरी गोस्वामी : हृदयगाथा
रचनाओं के अधिकार सुरक्षित है...
All right reserved ✔ Verified Account Official © Profile Original

जिंदगी भर के लिए




तुम रूठ गये हो ऐसे जिन्दगी भर के लिए
मैं तरसती रहूँ मौत को जिंदगी भर के लिए
मेरे पिया, कैसे सितमगर बन गये मेरे लिए
मैं तड़फती हूँ तेरे सितम को जिंदगी भर के लिए

मुकेश गिरी गोस्वामी : मन की बातें

नई कवितायेँ ...

LatestPoetry:


Hindi